BooksCaterer

Decoding 80/100 Marks. एक इम्तिहान: एक परिक्षा |

DLF-9788190181037
Only 1 left in stock
Rs.300 Rs.249 ×

यह पुस्तक उन विद्यार्थी के लिए है जो मानसिक स्तर पर अपने को कमजोर पाते हों | यह पुस्तक उन्हे मानसिक स्तर पर इतना मजबूत बना देती है कि आज स्टूडेंट के अन्दर जो उर्जा शक्ति है, उसे अध्यन की कला को एक सरल रेखा (Sample) की तरह चला देती है जिससे उन्हे दिशा, लक्ष्य और भविष्य का मानचित्र बनाने में कहीं दिक्कत का सामना नहीं करना पड़ता वरना विद्यार्थी के जीवन के तार आपस में इस तरह उलझ जाते हैं की उनको अपनी दशा और दिशा का पता नही चलता |

  • कोचिंग का कला बाज़ार अध्यन की कला नहीं सिखला सकता |
  • Break the 'Break' of Marks.
  • स्कूल में बस्ता नहीं, रस्ता चाहिए |
  • अभ्यास और प्रयोग-अध्यन की दो आँखें हैं |
  • Do not study hard but study hardly.
  • रातों को दांव पर लगाकर अंकों से दोस्ती नहीं की जा सकती |
  • 80/100 मार्क्स का सार ही इसका समापन है |
  • प्रयोगशाला ही अंकों की इनामी योजना है |
  • More Marks per mark.
  • अपनी कमजोरी और ताकत-दोनों पर अध्यन करें |
  • अध्यन में ताल नहीं-तालमेल चाहिए |
  • Teacher can not be a Tutor.
  • प्रतिभा किसी भी संसाधनों की मोहताज नहीं होती |
  • नियमों के दायरे में रहकर अध्ययन तो किया जा सकता है-पर इतिहास नहीं रचा जा सकता है |
  • Learn to Earn-Golden Marks.



Subject Self Help
Selling Rights Worldwide
Packing Weight 1 kg
ISBN 9788190181037
Author Dr. Ram Bajaj
Publisher RNB Merchantile
Language Hindi
Page count 303
Book Format Paper Back

Categories: Hindi Books [ हिन्दी किताबें ] Career & Job Self-Help Books

Decoding 80/100 Marks. एक इम्तिहान: एक परिक्षा | reviews

Be the first to write a review of this product!